• Sadhna Path

Sadhna Path - साधना पथ

यह पुस्तक ओशो की तीन अदभुत कृतियों का संकलन है—साधना पथ, अंतर्यात्रा व प्रभु की पगडंडियां।

‘साधना पथ’ में ओशो के वे प्रवचन व ध्यान-निर्देश समाहित हैं जो उन्होंने पहला साधना-शिविर संचालित करते हुए दिए थे। इन प्रवचनों में ओशो ध्यान की भूमिका व पूर्व तैयारी को समझाते हुए हमें मार्ग की कठिनाइयों से अवगत भी कराते हैं और उनका निवारण भी करते हैं।

‘अंतर्यात्रा’ में ओशो हमें ध्यान के मार्ग पर तय होने वाली यात्रा पर लिए चलते हैं—शरीर से मस्तिष्क, मस्तिष्क से हृदय, हृदय से नाभि, और अंततः शून्य में।

‘प्रभु की पगडंडियां’ में ओशो हमारे भीतर छिपे चार गुप्त द्वारों—करुणा, मैत्री, मुदिता, और उपेक्षा—से हमें परिचित करवाते हैं और उन्हें खोलने की कुंजियां हमें देते हैं।


 

विषय सूची

आलोक-आमंत्रण
 

साधना पथ

1. साधना की भूमिका
2. ध्यान में कैसे होना
3. धर्म, संन्यास, अमूर्च्छा और ध्यान
4. रुको, देखो और होओ
5. नीति नहीं, धर्म-साधना
6. नीति, समाज और धर्म
7. ‘स्व’ की अग्नि परीक्षा
8. सत्य: स्वानुभव की साधना
9. मन का अतिक्रमण
10. ध्यान, जीवन और सत्य
11. निर्विषय-चेतना का जागरण
12. सत्य-अनुभूति में बाधाएं
13. साधक का पाथेय
14. साधना और संकल्प

 

अंतर्यात्रा

1. साधना की पहली सीढ़ी: शरीर
2. मस्तिष्क से हृदय, हृदय से नाभि की ओर
3. नाभि-यात्रा: सम्यक आहार-श्रम-निद्रा
4. मन-साक्षात्कार के सूत्र
5. ज्ञान के भ्रम से छुटकारा
6. विश्वास-मात्र से छुटकारा
7. हृदय-वीणा के सूत्र
8. ‘मैं’ से मुक्ति

 

प्रभु की पगडंडियां

1. वर्तमान में जीएं; मौन, नासाग्र-दृष्टि
2. प्रभु-मंदिर का पहला द्वार: करुणा
3. मौन, उपेक्षा, करुणा और ध्यान
4. प्रभु-मंदिर का दूसरा द्वार: मैत्री
5. हिंसा, अहंकार; प्रेम और ध्यान
6. प्रभु-मंदिर का तीसरा द्वार: मुदिता
7. प्रभु-मंदिर का चौथा द्वार: उपेक्षा

 

 

Sadhna Path

  • Product Code: Sadhna Path
  • Availability: In Stock

Tags: Hindi books, Sadhna Path