• Geeta Darshan-Vol.3

Geeta Darshan-Vol.3 - गीता-दर्शन भाग तीन

कृष्ण जैसे व्यक्ति की करुणा अपरिसीम है। यह जानते हुए कि हम सुनकर भी नहीं समझ पाएंगे, हम देखकर भी नहीं समझ पाएंगे, फिर भी एक असंभव प्रयास कृष्ण जैसे लोग करते हैं। उनकी वजह से जिंदगी में थोड़ा नमक है, उनकी वजह से जिंदगी में थोड़ी रौनक है, जिन्होंने असंभव प्रयास किया।
ओशो

इस पुस्तक में गीता के छठे व सातवें अध्याय--आत्म-संयम-योग व ज्ञान-विज्ञान-योग--तथा विविध प्रश्नों व विषयों पर चर्चा है। 

कुछ विषय बिंदु:

*अंतर्यात्रा का विज्ञान 
*योग का अंतर्विज्ञान 
*दुख-सुख में अविचलित रहने की कला 
*अदृश्य की खोज 
*कार्य-कारण के जाल से मुक्ति

विषय सूची

अध्याय-6 
प्रवचन 1: कृष्ण का संन्यास, उत्सवपूर्ण संन्यास 
प्रवचन 2: आसक्ति का सम्मोहन 
प्रवचन 3: मालकियत की घोषणा 
प्रवचन 4: ज्ञान विजय है 
प्रवचन 5: ह्रदय की अंतर-गुफा 
प्रवचन 6: अंतर्यात्रा का विज्ञान 
प्रवचन 7: अपरिग्रही चित्त 
प्रवचन 8: योगाभ्यास-गलत को काटने के लिए 
प्रवचन 9: योग का अंतर्विज्ञान 
प्रवचन 10: चित्त वृत्ति निरोध 
प्रवचन 11: दुखों में अचलायमान 
प्रवचन 12: मन साधना बन जाए 
प्रवचन 13: पदार्थ से प्रतिक्रमण-परमात्मा पर 
प्रवचन 14: अहंकार खोने के दो ढंग 
प्रवचन 15: सर्व भूतों में प्रभु का स्मरण 
प्रवचन 16: मन का रूपांतरण 
प्रवचन 17: वैराग्य और अभ्यास 
प्रवचन 18: तंत्र और योग 
प्रवचन 19: यह किनारा छोडें 
प्रवचन 20: आंतरिक संपदा 
प्रवचन 21: श्रद्धावान योगी श्रेष्ठ है 
अध्याय-7 
प्रवचन 1 : अनन्य निष्ठा 
प्रवचन 2 : परमात्मा की खोज 
प्रवचन 3 : अदृश्य की खोज 
प्रवचन 4 : आध्यात्मिक बल 
प्रवचन 5 : प्रकृति और परमात्मा 
प्रवचन 6 : जीवन अवसर है 
प्रवचन 7 : मुखौटों से मुक्ति 
प्रवचन 8 : श्रद्धा का सेतु 
प्रवचन 9 : निराकार का बोध 
प्रवचन 10: धर्म का सार:शरणागति 

 

 

 

Geeta Darshan-Vol.3

  • Product Code: Geeta Darshan-Vol.3
  • Availability: In Stock

Tags: Geeta Darshan-Vol.3, Hindi books