• Adhyatma Upnishad

Adhyatma Upnishad - अध्‍यात्‍म उपनिषद

यह उपनिषद अध्यात्म का सीधा साक्षात्कार है। सिद्धांत इसमें नहीं हैं, इसमें सिद्धों का अनुभव है। इसमें उस सब की कोई बातचीत नहीं है जो कुतूहल से पैदा होती है, जिज्ञासा से पैदा होती है। नहीं, इसमें तो उनकी तरफ इशारे हैं जो मुमुक्षा से भरे हैं, और उनके इशारे हैं जिन्होंने पा लिया है। 

ओशो



पुस्तक के कुछ विषय-बिंदु: 

शिक्षक होने में मजा क्या है?
कहां खोजें परमात्मा को? 
वासना का अर्थ क्या है? 
मृत्यु जब घटती है तो कौन मरता है? 

धर्म, दर्शन, विज्ञान, इतिहास, साहित्य, संस्कृति, कला आदि का कोई भी क्षेत्र ऐसा नहीं है, जो ओशो से अछूता बचा हो। वे विद्या-व्यसनी रहे, उनका विशाल पुस्तकालय इसका प्रमाण है। वेद, उपनिषद, पुराण, महाभारत, गीता, बाइबिल, धम्मपद, ग्रंथसाहिब आदि सब कुछ उन्होंने आत्मसात कर लिया है। उनकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि उन्होंने धर्म-ग्रंथों में लिखे शब्द को यथावत स्वीकार नहीं किया। उस शब्द की भावना को अपने मौलिक चिंतन की कसौटी पर कसा और उसके गूढ़ अर्थ को प्रकट किया। उनकी दृष्टि एक वैज्ञानिक की दृष्टि है। यशपाल जैन (सुप्रसिद्ध लेखक एवं विचारक)

 

विषय सूची

अनुक्रम 

प्रवचन 1: जीवन के द्वार की कुंजी प्रवचन 2: परमात्मा मझधार है प्रवचन 3: नेति-नेति प्रवचन 4: अमृत का जगत प्रवचन 5: वासना का नाश ही मोक्ष है प्रवचन 6: जीवन एक अवसर है प्रवचन 7: चैतन्य का दर्पण प्रवचन 8: वैराग्य का फल ज्ञान है प्रवचन 9: ब्रह्म की छाया संसार है प्रवचन 10: सत्य की यात्रा के चार चरण प्रवचन 11: धर्म-मेघ समाधि प्रवचन 12: वैराग्य आनंद का द्वार है प्रवचन 13: जीवन्मुक्त है संत प्रवचन 14: आकाश के समान असंग है जीवन्मुक्त प्रवचन 15: मेरे का सारा जाल कल्पित है प्रवचन 16: एक और अद्वैत ब्रह्म प्रवचन 17: धर्म है परम रहस्य

 

 

 

 

 

 

Adhyatma Upnishad

  • Product Code: Adhyatma Upnishad
  • Availability: In Stock

Tags: Adhyatma Upnishad, Hindi Books